दिल्ली आएगा यूएस कांग्रेस का शिष्टमंडल, भारत संग द्विपक्षीय संबंधों को करेगा और मजबूत

अमेरिका भारत के साथ अपने द्विपक्षीय संबंधों को और अधिक मजबूत करना चाहता है। बता दें कि अमेरिका पहले से ही भारत का रणनीतिक साझीदार है। मोदी के रिकॉर्ड तीसरी बार पीएम बनने के बाद भारत और अमेरिका के रिश्तों में और अधिक मजबूती आने की उम्मीद की जा रही है।

वाशिंगटन। भारत पूरी दुनिया में एक नई ताकत बनकर उभर रहा है। ऐसे में विश्व के तमाम शक्तिशाली देश भारत के साथ दोस्ती करना चाहते हैं। वहीं जो देश पहले से ही भारत के दोस्त हैं वह अपनी द्विपक्षीय साझेदारी को और गहरा बनाना चाहते हैं। इसी कड़ी में अमेरिका भी भारत के साथ अपने द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत बनाना चाहता है। अमेरिकी विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष माइकल मैककॉल के नेतृत्व में एक द्विदलीय अमेरिकी कांग्रेस शिष्टमंडल द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने और तिब्बती आध्यात्मिक नेता दलाई लामा से मुलाकात करने के लिए भारत का दौरा करेगा।

भारत में, शिष्टमंडल 14वें दलाई लामा, भारतीय सरकारी अधिकारियों और देश में अमेरिकी व्यवसायों के प्रतिनिधियों से मुलाकात करेगा। मैककॉल ने कहा, ‘‘भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और अमेरिका का एक महत्वपूर्ण रणनीतिक साझेदार है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं सरकारी अधिकारियों और अमेरिकी व्यापार समुदाय के साथ बैठक करने के लिए उत्सुक हूं ताकि यह जान सकूं कि हम भारत के साथ अपने संबंधों को कैसे मजबूत बना सकते हैं।’’

जल्द आएगा अमेरिकी शिष्ट मंडल

मैककॉल ने कहा, ‘‘मैं दलाई लामा से मिलने का अवसर पाकर सम्मानित महसूस हो रहा है। तिब्बती लोग लोकतंत्र-प्रेमी लोग हैं जो अपने धर्म का स्वतंत्र रूप से पालन करना चाहते हैं। इस यात्रा से अमेरिकी कांग्रेस में तिब्बत के भविष्य के बारे में अपनी राय रखने के लिए मदद मिलेगी।’’ अमेरिकी बयान में यात्रा की तारीखों का उल्लेख नहीं किया गया है। नयी दिल्ली में आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि शिष्टमंडल 18 और 19 जून को धर्मशाला की यात्रा करेगा।

Related Articles

Back to top button